Friday, July 19, 2024 at 8:30 PM

300 किमी के अंदर हैं ये हिल स्टेशन, कुछ घंटों में घूमकर आ सकते हैं वापस

लोगों को घूमने का शौक तो होता है लेकिन कामकाज और व्यस्तता के कारण घूमने के लिए वक्त नहीं मिल पाता है। अगर आपके पास भी वक्त की कमी है तो ऐसी जगहों का चयन करें, जो आपके शहर से करीब में हो ताकि सफर में समय कम लगे और घूमने के लिए भी बहुत अधिक छुट्टियों की जरूरत न पड़े। अगर आप दिल्ली एनसीआर या आसपास के रहने वाले हैं तो महज 300 किलोमीटर के अंदर आने वाले खूबसूरत और सस्ते हिल स्टेशनों की सैर करने जा सकते हैं, जिसका सफर लगभग 5 घंटे में तय किया जा सकता है। इस लेख के जरिए जानिए दिल्ली के बेहद नजदीक स्थित हिल स्टेशनों के बारे में।

लैंसडाउन

गर्मियों में करीब के हिल स्टेशनों की तलाश में हैं तो मौसम का भी ध्यान रखें। दिल्ली से चार घंटे की दूरी पर लैंसडाउन हिल स्टेशन है। 250 किमी दूर इस हिल स्टेशन के लिए सुबह तड़के या देर रात सफर पर निकल सकते हैं। यहां टिप एंड टॉप, भुल्ला झील, दरवान सिंह रेजिमेंटल म्यूजियम घूमने के अलावा प्रकृति की सुंदरता का करीब से लुत्फ उठाने के लिए बोटिंग और सफारी का अनुभव ले सकते हैं।

नाहन

हिमाचल प्रदेश का खूबसूरत हिल स्टेशन नाहन दिल्ली से 254 किमी दूर स्थित है। यहां गर्मियों में मौसम ठंडा रहता है और अधिक भीड़ भाड़ न होने के कारण सुकून भरी छुट्टियां बिताने के लिए बेहतर विकल्प हो सकता है। नाहन हिल स्टेशन में रेणुका झील, सुकेती फॉसिल पार्क, जैतक किला, चूड़धार चोटी पर्यटकों के लिए आकर्षण का केंद्र हैं। ट्रैकिंग और बोटिंग के लिए इस हिल स्टेशन पर आ सकते हैं।

पारवाणू

हिमाचल प्रदेश में छोटा सा खूबसूरत शहर है, जिसका नाम पारवाणू है। यह हिल स्टेशन दिल्ली से 260 किमी दूर है। परवाणू हिमालय की ऊंची-नीची चोटियों से घिरा है। यहां मां काली का मंदिर, मोरनी हिल्स, गोरखा फोर्ट घूमने जा सकते हैं, साथ ही ट्रैकिंग के लिए टिंबर ट्रेल परफेक्ट जगह है।

देहरादून

दिल्ली से 255 किमी दूर देहरादून चारों तरफ से शिवालिक की पहाड़ियों से घिरा है। देहरादून की खूबसूरत जगहों में टपकेश्वर महादेव मंदिर, फाॅरेस्ट रिसर्च इंस्टीट्यूट (एफआरआई), इंडियन मिलिट्री एकेडमी, रॉबर्स केव, सहस्त्रधारा आदि स्थित है।

Check Also

खाने में ज्यादा हो गई है मिर्च तो अपनाएं ये तरीके, सही हो जाएगा स्वाद

भारतीय खाना पूरे विश्व में काफी फेमस है। दूर के देशों से लोग आकर यहां …