Thursday, May 30, 2024 at 5:26 AM

हर साल 5-6 लाख लोगों की मलेरिया से हो जाती है मौत, क्या इससे बचाव के लिए है कोई वैक्सीन?

मच्छरजनित तमाम प्रकार के रोगों का वैश्विक जोखिम देखा जाता रहा है, मलेरिया इसी तरह की एक गंभीर बीमारी है जो हर साल लाखों लोगों की मौत का कारण बनती है। मलेरिया एक प्रकार के परजीवी से होने वाली बीमारी है, ये संक्रमित मच्छरों के काटने से फैलता है। आंकड़ों के मुताबिक हर साल लाखों लोगों की मलेरिया के कारण मौत हो जाती है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) की रिपोर्ट के मुताबिक साल 2022 में 6.08 लाख लोगों की मलेरिया से मौत हुई, जो पिछले साल 2021 में हुई 6.10 लाख मौतों से थोड़ी कम थी। भारत में भी हर साल बड़ी संख्या में मलेरिया के मामले रिपोर्ट किए जाते रहे हैं।

दुनियाभर में मलेरिया रोग को नियंत्रित करने के प्रयासों पर जोर देने और बचाव को लेकर लोगों को जागरूक करने के उद्देश्य से हर साल 25 अप्रैल को विश्व मलेरिया दिवस मनाया जाता है। इस साल मलेरिया डे का थीम है- हेल्थ इक्वालिटी, जेंडर एंड ह्यूमन राइट्स।स्वास्थ्य विशेषज्ञ कहते हैं, सभी लोगों को मच्छरजनित इस रोग से बचाव के लिए प्रयास करते रहना जरूरी है। क्या मलेरिया से सुरक्षित रहने के लिए कोई वैक्सीन उपलब्ध है और इस रोग से किस प्रकार से बचा जा सकता है, आइए इस बारे में जानते हैं।

संक्रमित मच्छरों के काटने से होता है मलेरिया

संक्रमित मच्छरों के काटने से यह रोग मनुष्यों में फैलता है। यह संक्रमण एक से दूसरे व्यक्ति में नहीं होता है हालांकि दुर्लभ मामलों में, संक्रमित गर्भवती से उनके बच्चे में यह बीमारी जन्म से पहले या जन्म के दौरान स्थानांतरित हो सकती है। स्वास्थ्य विशेषज्ञ कहते हैं, मलेरिया घातक हो सकता है खासकर अफ्रीकी देशों में इससे मृत्युदर अधिक देखा जाता रहा है। डब्ल्यूएचओ का अनुमान है कि मलेरिया से होने वाली लगभग 94% मौतें अकेले अफ्रीका में होती हैं, ज्यादातर 5 साल से कम उम्र के बच्चों में।

कैसे होते हैं मलेरिया के लक्षण?

मलेरिया के संकेत और लक्षण आमतौर पर फ्लू के लक्षणों के समान होते हैं। इसमें रोगी को बुखार-पसीना आने, ठंड लगने, सिरदर्द और मांसपेशियों में दर्द, थकान, सांस लेने में दिक्कत, दस्त- मितली और उल्टी की दिक्कत हो सकती है। जैसे-जैसे मलेरिया बढ़ता जाता है, यह एनीमिया और पीलिया का कारण भी बन सकती है। मलेरिया के सबसे गंभीर स्थिति में कोमा होने का भी जोखिम देखा जाता रहा है। स्वास्थ्य विशेषज्ञ कहते हैं, ये रोग किसी को भी हो सकता है इसलिए सभी के लिए बचाव बहुत जरूरी है।

मच्छरों से बचाव बहुत जरूरी

स्वास्थ्य विशेषज्ञ कहते हैं, यदि आप ऐसे क्षेत्रों में रहते हैं जहां मलेरिया के मामले अधिक हैं तो मच्छरों के काटने से बचने के उपाय बहुत जरूरी हैं। मलेरिया के मच्छर शाम और सुबह के बीच सबसे अधिक सक्रिय होते हैं। मच्छरों के काटने से खुद को बचाने के लिए पूरी बाजू वाली शर्ट और शरीर को अच्छे से ढकने वाले कपड़े पहनें। सोते समय मच्छरदानी के उपयोग को सबसे कारगर तरीका माना जाता है।

Check Also

धूप से त्वचा को बचाना है तो सनस्क्रीन लगाने का सही तरीका जान लें

मई-जून के महीने में पढ़ने वाली गर्मी से लोगों की हालत खराब हो जाती है। …