Monday, April 22, 2024 at 11:41 AM

उज्जैन में दूल्हे की तरह सजे तीनों लोकों के स्वामी, त्र्यंबकेश्वर से काशी विश्वनाथ तक पूजा-पाठ

महाशिवरात्रि के अवसर पर उज्जैन के महाकालेश्वर मंदिर में पूजा-अर्चना हुई। भस्म आरती के भगवान का शृंगार किया गया। महाशिवरात्रि के अवसर पर उज्जैन के श्री महाकालेश्वर मंदिर को रंग-बिरंगी लाइटों से सजाया गया।

सुदर्शन पटनायक ने बनाई भगवान शिव की कलाकृति
ओडिशा के सुप्रसिद्ध रेत कलाकार सुदर्शन पटनायक ने पुरी में 500 शिवलिंग से भगवान शिव की रेत से कलाकृति बनाई।

बिस्कुट का उपयोग करके केदारनाथ मंदिर की छवि
उत्तर प्रदेश के प्रयागराज में रेत कलाकारों ने मिलकर बिस्कुट से केदारनाथ मंदिर की छवि बनाई है।

पिछले साल हमने 1,111 बिस्कुट से बनाया शिवलिंग
इंटरनेशनल सैंड आर्टिस्ट अजय गुप्ता ने बताया कि हमने बिस्कुट का उपयोग करके केदारनाथ मंदिर की छवि बनाई है। पिछले साल हमने 1,111 बिस्कुट से एक शिवलिंग बनाया था। उसके बाद से ही हमारे मन में विचार आया कि बिस्कुट से एक मंदिर भी बनाया जाना चाहिए।

अलीगढ़ में आधी रात से ही जल चढ़ाना शुरू
महाशिवरात्रि के पावन अवसर पर अलीगढ़ जिले के शिवालय बम भोले के जयकारों से गूंज उठे। मध्यरात्रि से कांवड़ियों ने कांवड़ चढ़ाना शुरू किया, जो 8 मार्च दोपहर तक जारी रहेगा। खेरेश्वर धाम, अचलेश्वर धाम और मंगलेश्वर महादेव मंदिर समेत अन्य शिवालयों में कांवड़ियों की कतार लगी रही। मंदिरों के बाहर मेले जैसा माहौल रहा।

काशी में शिव विवाह के साक्षी बनेंगे शिवभक्त
महाशिवरात्रि के अवसर पर काशी विश्वनाथ मंदिर में शिवभक्त भगवान शिव और माता गौरा के विवाह के साक्षी बनेंगे। पूर्व महंत डॉ. कुलपति तिवारी का आवास जनवासा बनेगा तो श्री काशी विश्वनाथ मंदिर का गर्भगृह मंडप में तब्दील हो जाएगा। शिवयोग, सर्वार्थ सिद्धि, सिद्धि योग और शुक्र प्रदोष के संयोग में महाशिवरात्रि का महापर्व मनेगा। भगवान शिव और मां गौरा के विवाहोत्सव के आयोजन होंगे।

त्र्यंबकेश्वर ज्योतिर्लिंग में भी पूजा-अर्चना
महाशिवरात्रि के अवसर पर महाराष्ट्र के नासिक में स्थित त्र्यंबकेश्वर मंदिर में भी भोलेनाथ की पूजा अर्चना की गई। भक्त देर रात से ही अपने ईष्ट का इंतजार कर रहे थे।

Check Also

तापमान वृद्धि सीमित रखने के लक्ष्य से दुनिया को दूर ले जा रहा प्लास्टिक उद्योग, उत्पादन पर नकेल जरूरी

नई दिल्ली: जलवायु परिवर्तन के खतरनाक प्रभावों से बचने के लिए पृथ्वी के दीर्घकालिक औसत …