Thursday, July 7, 2022 at 7:23 PM

क्या अब अमेरिका में होगा पाकिस्तान-श्रीलंका जैसा हाल ? इस वजह से बढ़ी राष्ट्रपति जो बाइडन की चिंता

अमेरिका में महंगाई बेकाबू होती दिख रही है। तमाम अनुमानों को झुठलाते हुए मुद्रास्फीति दर मई में 8.6 फीसदी तक पहुंच गई। अमेरिकी महंगाई दर चार दशक के उच्चतम स्तर पर पहुंच गई थी। इससे फेडरल रिजर्व पर ब्याज दर बढ़ाने का दबाव बढ़ गया है।

निवेशकों की बिक्री बढ़ेगी और भारतीय बाजार में और गिरावट आएगी।अमेरिका में मई महीने के मुद्रास्फीति के आंकड़े, अमेरिकी मुद्रास्फीति के आंकड़े) सामने आए हैं। अमेरिकी श्रम विभाग की ओर से जारी आंकड़ों के मुताबिक मई महीने में उपभोक्ता मूल्य सूचकांक यानी खुदरा महंगाई (खुदरा महंगाई) 4 दशक के उच्चतम स्तर पर पहुंच गई. मई में सीपीआई सालाना आधार पर 8.6 फीसदी था। इसमें मासिक आधार पर एक प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई है।

महंगाई के नए आंकड़े सामने आने के बाद अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने कहा- ‘अमेरिका के लोग चिंतित हैं और मैं इस बात को समझता हूं। उनके चिंतित होने का ठोस कारण है। (रूसी राष्ट्रपति व्लादीमीर) पुतिन टैक्स का जैसा असर खाद्य पदार्थों और गैस पर हुआ है, वैसा हमने इसके पहले कभी नहीं देखा।’

अमेरिका पिछले कुछ महीनों से लगातार उच्च मुद्रास्फीति (उच्च मुद्रास्फीति दर) की स्थिति से जूझ रहा है। भोजन और अन्य आवश्यक वस्तुओं की बढ़ती कीमतों ने एक अमेरिकी परिवार के लिए जीवित रहना बहुत मुश्किल बना दिया है। इससे सबसे ज्यादा नुकसान अश्वेत समुदाय और निम्न आय वर्ग के लोगों को हो रहा है।

Check Also

मुश्किलों से घिरे ब्रिटेन के PM बोरिस जॉनसन, बगावत के चलते 39 मंत्री और संसदीय सचिव ने छोड़ा पद

ब्रिटेन में दो मंत्रियों के पद छोड़ने के बाद राजनीतिक संकट गहराता जा रहा है। …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *