Monday, June 24, 2024 at 9:46 AM

डिप्रेशन के लक्षण को कम करने में फायदेमंद होता हैं ये योगासन

धनुरासन एक ऐसा आसन है, जिसको करने पर शरीर की मुद्रा धनुष के समान दिखाई देती है. ये आसन पाचन तंत्र मजबूत करने और हड्डियों की मांसपेशियों का तापमान बढ़ाता है.

धनुरासन सस्कृंत शब्द से मिलकर बनाया गया है. धनु का अर्थ धनुष व आसान का अर्थ मुद्रा है. यह आसान करने पर धनुष की मुद्रा बन जाती है, इसलिए इसे धनुरासन कहते है. जिन लोगों को उच्च रक्तचाप है उनको यह आसान करने से बचना चाहिए, चलिए धनुरासन करने के तरीके के बारे में बताते है.

धनुरासन करने की विधि ?

  1. धनुरासन को करने के लिए सबसे पहले पेट के बल लेट जाएं.
  2. घुटनों को मोड़ते हुए कमर के पास ले आएं और अपने हाथ से दोनों टखनों को पकड़ें.
  3. अब अपने सिर, छाती और जांघ को ऊपर की ओर उठाएं.
  4. अपने शरीर के भार को पेट के निचले हिस्से पर लेने का प्रयास करें.
  5. पैरों को पकड़कर आगे की ओर शरीर को खींचने की कोशिश करें.
  6. अपनी क्षमतानुसार लगभग 15-20 सेकेंड तक इस आसन को करें.
  7. सांस को धीरे धीरे छोड़े और छाती, पैर को जमीन पर रख आराम करें.

धनुरासन करने के फायदे

  • यह आसन डिप्रेशन के लक्षण को कम करने में फायदेमंद रहता है.
  • यह मोटापा को कम करता है और शरीर को संतुलित रखता है.
  • पेट की मांसपेशियो को मजबूत करने में प्रभावी होता है.
  • यह आसन मासपेशियों और हड्डियों को लचीला बनाता है.
  • पीठ या कमर दर्द जैसी समस्या से राहत दिलाने में मददगार
  • इस आसन को करने से हाथो व बाहों में कसावट बनी रहती है.
  • हिलाओं में मासिक धर्म की अनियमितता दूर होती है.
  • इसको करके रीढ़ की हड्डियों की मजबूत किया जा सकता है.
  • इस आसन से अपच, अजीर्ण और पेट के विकार भी दूर होते हैं.
  • इस आसन को करने से भूख बढ़ती है.

Check Also

युवाओं में इन दो वजहों से बढ़ रही हैं किडनी की बीमारियां, कहीं आप भी तो नहीं हैं शिकार?

किडनी की बीमारियों पर अगर समय रहते ध्यान न दिया जाए तो इसके जानलेवा दुष्प्रभाव …