Monday, February 26, 2024 at 11:25 PM

मकर संक्रांति के दिन रंगोली की इन डिजाइनों से सजाएं घर, देखकर हर कोई करेगा तारीफ

मकर संक्रांति का त्योहार इस साल 15 जनवरी के दिन मनाया जाएगा। वैसे तो हर साल ये त्योहार 14 जनवरी को मनाया जाता था, लेकिन इस साल हिंदी पंचांग के अनुसार इसे 15 जनवरी के दिन मनाया जाएगा। देशभर में मकर संक्रांति को अलग-अलग नामों से जाना जाता है, जैसे कि असम में माघ बिहू, पंजाब में माघी, हिमाचल प्रदेश में माघी साजी, जम्मू में माघी संग्रांद या उत्तरैन (उत्तरायण), हरियाणा में सकरात, मध्य भारत में सुकराट, दक्षिण भारत में पोंगल, गुजरात में उत्तरायण आदि।

ये साल का पहला बड़ा त्योहार होता है। इसी वजह से हर मकर संक्रांति के दिन लोग अपने घरों को अच्छे से सजाते हैं। भारतीय घर में कोई त्योहार हो और रंगोली ना बने, ऐसा तो हो ही नहीं सकता। अगर आप भी मकर संक्रांति के दिन अपने घर के आंगन में रंगोली बनाना चाहते हैं, तो हम आपको कुछ सिंपल रंगोली के डिजाइन दिखाने जा रहे हैं।

ये है आसान विकल्प

अगर आप रंगोली की ऐसी डिजाइन की तलाश कर रही हैं, जो ज्यादा बड़ी ना हो, तो आप इसका चयन कर सकते हैं। इसे बनाना बेहद आसान है।

कलश वाली रंगोली

घर के आंगन में कलश रखना काफी शुभ माना जाता है। ऐसे में आप अपने घर के आंगन में इस तरह से लाल, हरे, पीले और सफेद रंग की मदद से रंगोली बनाएं। इसके बीच में अगर आप कलश रखेंगी, तो ये और खूबसूरत दिखेगी।

नीले रंग का करें ऐसे इस्तेमाल

अगर आपके घर की जमीन पर सफेद टाइल्स या पत्थर लगे हैं, तो आप इस तरह से नीले रंग की रंगोली अपने आंगन में बना सकती हैं। इसे अगर दो लोग मिलकर बनाएंगे तो ये आसानी से बन जाएगी।

दरवाजे पर बनाएं ऐसी रंगोली

अगर आप अपने घर के दरवाजे पर कुछ खास तरह की रंगोली बनाना चाहती हैं, तो ये एक बेहतर विकल्प है। रंगोली की ये डिजाइन बनाना भी बेहद आसान है।

फूलों की रंगोली

अगर आपके आस-पास रंगोली के रंग नहीं मिल रहे हैं तो आप इस तरह से फूलों की रंगोली बना सकती हैं। गेंदे और गुलाब की पंखुड़ियों की मदद से आप ऐसी रंगोली तैयार कर सकती हैं।

ये है सबसे सही विकल्प

अगर आप अपनी रंगोली में पतंग बनाना चाहती हैं, तो रंगोली की ये डिजाइन आपके लिए एक बेहतर विकल्प है। इस रंग-बिरंगी रंगोली में पतंग के साथ आप चरखी भी बना सकती हैं।

Check Also

युवाओं में बढ़ रहा है हार्ट अटैक का खतरा, डॉक्टर बोले- ये तीन उपाय 40% तक कम कर सकते हैं जोखिम

हृदय रोगों के मामले पिछले कुछ वर्षों में काफी तेजी से बढ़े हैं, आश्चर्यजनक रूप …