Wednesday, July 6, 2022 at 3:29 AM

दाने-दाने को तरस रहे श्रीलंका में आया एक और बड़ा संकट, वित्त मंत्रालय ने विदेशी कर्ज चुकाने से हाथ खड़े किए

श्रीलंका में जारी आर्थिक संकट और गहरा गया है। देश के वित्त मंत्रालय ने विदेशी कर्ज चुकाने में असमर्थता प्रकट करते हुए डिफॉल्टर बनने की घोषणा कर दी। श्रीलंका के वित्त मंत्रालय ने कहा कि वह दूसरे देशों की सरकारों समेत अन्य सभी कर्जदाताओं का कर्ज चुकाने की स्थिति में नहीं है।

श्रीलंका का विदेशी मुद्रा भंडार लगभग सूख गया है और वह डॉलर में भुगतान करने की स्थिति में नहीं है। श्रीलंकाई रुपये का पहले ही डॉलर के मुकाबले काफी अवमूल्यन हो चुका है, ऐसे में कर्जदाता संभवत: इसमें भुगतान वापसी के लिए तैयार नहीं होंगे।

श्रीलंका में बीते कई सप्ताह से आर्थिक व सियासी संकट चल रहा है। इसी बीच श्रीलंका सरकार ने मंगलवार को देश पर हो चुके 51 अरब डॉलर के विदेशी कर्ज को चुकाने में लाचारी प्रकट कर दी।

बनने का ही अंतिम विकल्प बचा था। देश आजादी के बाद का सबसे भयावह आर्थिक संकट भोग रहा है। खाने पीने के सामान व ईंधन की भारी किल्लत हो गई है।

Check Also

आर्थिक संकट से जूझ रहे पाकिस्तान पर पड़ी बारिश की मार, दक्षिण पश्चिम में 6 लोगों की मौत

दक्षिण-पश्चिमी पाकिस्तान और देश के अन्य हिस्सों में भारी बारिश के कारण मकानों की छत …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *