Monday, July 15, 2024 at 10:52 PM

रवींद्र वायकर मामले में आदित्य ठाकरे बोले- कोर्ट जाएंगे, राउत ने कहा- लोकसभा में सांसद की शपथ पर लगे रोक

मुंबई उत्तर पश्चिम लोकसभा सीट से रविंद्र वायकर ने शिवसेना (उद्धव ठाकरे गुट) से चुनाव लड़ा था। वे री-काउंटिंग में 48 वोटों से जीते थे। इस जीत के बाद से ही उनपर कई आरोप लगाए जा रहे हैं। शिवसेना शिवसेना (यूबीटी) नेता आदित्य ठाकरे ने चुनाव आयोग को चेतावनी जारी की। उन्होंने चुनाव आयोग को आसानी समझौता करने वाला बताकर कहा कि हम अदालत जाएंगे। उन्होंने कहा, “हमारे प्रत्याशी ने अमोल कीर्तिकर ने सीट जीत ली है। हम अदालत जाएंगे। उन्होंने चुनावा आयोग पर भी निशाना साधा। उन्होंने कहा कि चुनाव आयोग अब चुनाव आयोग नहीं रहा, यह ‘आसानी से समझौता करने वाला’ बन गया है। आदित्य ठाकरे ने भाजपा पर वार करते हुए कहा कि अगर ईवीएम नहीं होती, तो भाजपा 40 सीटें भी नहीं जीत पाती।”

शिवसेना (यूबीटी) के सांसद संजय राउत ने मांग की है कि शिवसेना नेता को लोकसभा सदस्य के रूप में शपथ लेने से रोका जाना चाहिए। 4 जून को लोकसभा चुनाव की मतगणना के दौरान गोरेगांव के एक मतगणना केंद्र पर शिवसेना (उद्धव ठाकरे गुट) के रविंद्र वायकर के रिश्तेदार के मोबाइल फोन इस्तेमाल करने को लेकर उनकी 48 वोटों से जीत पर सवाल उठाए गए हैं।

अब सोमवार को शिवसेना (यूबीटी) सांसद संजय राउत ने सोमवार को कहा कि शिवसेना नेता रवींद्र वायकर को लोकसभा सदस्य के रूप में शपथ लेने से रोका जाना चाहिए। बता दें कि मुंबई के वनराई पुलिस ने वायकर के साले के खिलाफ मतगणना केंद्र पर मोबाइल फोन इस्तेमाल करने का मामला दर्ज किया है। संजय राउत ने कहा, “वायकर की चुनावी जीत संदेह के घेरे में है, और मुंबई के वनराई पुलिस स्टेशन में पहले ही शिकायत दर्ज की जा चुकी है। चुनाव परिणाम को लेकर चल रहे विवाद के कारण, वायकर को लोकसभा सदस्य के रूप में शपथ लेने से रोका जाना चाहिए।” उन्होंने कहा, “अगर जांच पूरी होने तक उन्हें लोकसभा सदस्य बनने से रोक दिया जाए तो यह लोकतंत्र का सच्चा प्रदर्शन होगा।”

अमोल कीर्तिकर को जिताएं या फिर कोर्ट में करेंगे अपील- अनिल परब
शिवसेना (यूबीटी) नेता अनिल परब का कहना है, “अमोल कीर्तिकर के 19वें राउंड के बाद वोटों की गिनती में अनियमितता शुरू हुई। हर सांसद की सीट पर गिनती के लिए कुल 14 टेबल हैं। हर राउंड की गिनती के बाद हर एक ईवीएम काउंटिंग टेबल के पास एक एआरओ अधिकारी मौजूद रहता है। अंतिम जानकारी एआरओ को दी जाती है लेकिन 19 राउंड की गिनती के बाद एआरओ को जानकारी नहीं दी गई। वहीं चुनाव अधिकारी के फोन पर बार-बार कॉल आ रहे थे, जिसके कारण वह बार-बार वॉशरूम जा रहे थे। हमें पता है कि किसका कॉल आया था। अभी तक चुनाव आयोग ने हमें सीसीटीवी फुटेज नहीं दी है। हम चुनाव आयोग से मांग करते हैं कि इस पूरे मामले की जांच की जाए और अमोल कीर्तिकर को विजेता घोषित किया जाए। अगले 2-3 दिनों में हम कोर्ट में अपील दायर करेंगे।”

48 वोटों से शिवसेना (यूबीटी) के अमोल कीर्तिकर को हराया था
इस लोकसभा चुनाव में महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे की अगुवाई वाली शिवसेना के उम्मीदवार रविंद्र वायकर ने 4 जून को उद्धव ठाकरे की अगुवाई वाली शिवसेना (यूबीटी) के अमोल कीर्तिकर को 48 वोटों से हराया। संजय राउत ने किसी का नाम लिए बिना दावा किया कि वायकर के एक रिश्तेदार ने मतगणना वाले दिन से पहले वनराई पुलिस स्टेशन का लगातार दौरा किया और इसका उद्देश्य जानना चाहा। उन्होंने कहा, “वह वहां क्यों गया? क्या वह कोई सौदा करने की कोशिश कर रहा था? विवरण का खुलासा किया जाना चाहिए, अन्यथा मैं उनका पर्दाफाश कर दूंगा।”

Check Also

90 वर्षीय अर्थशास्त्री बोले- नोबेल के बिना जिंदगी बर्बाद नहीं होती; बची उम्र पढ़कर गुजार दूंगा

मुझे नहीं लगता कि नोबेल नहीं मिला होता तो मेरी जिंदगी बर्बाद होती। जिंदगी में …