Monday, May 20, 2024 at 10:04 PM

एयरपोर्ट्स और उद्योग समूहों पर हमले की धमकी, ईमेल मिलने के बाद अलर्ट पर सुरक्षाबल

देश के विभिन्न एयरपोर्ट्स और टर्मिनल पर हमले की धमकी देने का मामला सामने आया है। यह धमकी ‘टेरराइजर्स 111’ नामक संगठन के हवाले से धमकी दी गई है। संगठन द्वारा कई लोगों को ईमेल के जरिए यह धमकी दी गई। जिसके बाद देश के सभी एयरपोर्ट्स और टर्मिनल पर सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी गई है। शीर्ष साइबर सिक्योरिटी और आईटी एजेंसियां संदिग्ध ईमेल के स्त्रोत का पता लगाने में जुट गई हैं।

नागपुर एयरपोर्ट को बम से उड़ाने की दी गई धमकी
मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, सोमवार को सुबह करीब साढ़े नौ बजे संदिग्ध ईमेल भेजा गया। जिसमें नागपुर एयरपोर्ट पर भी हमले का दावा किया गया था। जिसके बाद नागपुर सिटी पुलिस के कमिश्नर रविंद्र सिंघल और उनकी टीम तुरंत एयरपोर्ट पहुंची और शीर्ष अधिकारियों को अलर्ट किया। विस्फोट का पता लगाने वाली और विस्फोटक निष्क्रिय करने वाली टीमें तैनात कर दी गईं। नागपुर के अलावा, जयपुर और गोवा एयरपोर्ट को भी बम से उड़ाने की धमकी दी गई थी। टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार, ईमेल में कहा गया कि ‘हम ये सुनिश्चित करेंगे कि हर तरफ खून बिखरे और हम ज्यादा से ज्यादा लोगों को मारना चाहते हैं।’ ईमेल में कहा गया कि टेरराइजर्स 111 नामक संगठन इसके पीछे है। कुछ हवाई जहाजों में भी बम रखने का दावा किया गया।

ईमेल मिलने के बाद सभी एयरपोर्ट और विभिन्न संस्थानों में सुरक्षा के इंतजाम कड़े कर दिए गए। इसके चलते सीआईएसएफ को भी परेशानी का सामना करना पड़ा। हालांकि सघन जांच पड़ताल के बाद जब कोई खतरा नहीं मिला तो सुरक्षा अधिकारी मानकर चल रहे हैं कि ये किसी सिरफिरे का काम हो सकता है। संदिग्ध ईमेल मिलने के बाद महाराष्ट्र एंटी टेरेरिस्ट स्कवॉड सक्रिय हुई और एयरपोर्टस और रेलवे स्टेशनों पर सामान की तलाशी ली गई। हालांकि कुछ भी संदिग्ध नहीं मिला। सुरक्षा अधिकारियों का कहना है कि अगले कुछ दिनों तक सुरक्षा व्यवस्था कड़ी रहेगी और सुरक्षा बल हाई अलर्ट पर रहेंगे। एयरपोर्ट के साथ ही एक प्रमुख उद्योग समूह को भी धमकी भरा ईमेल मिला। साथ ही एक बैंक, एक निजी एयरलाइन कंपनी और एक अखबार को भी धमकी भरा ईमेल मिला। सीआईएसएफ की अगरतला, गया, इंफाल, श्रीनगर और वाराणसी यूनिट को भी ऐसा ईमेल भेजा गया।

Check Also

निकोबार द्वीपसमूह पहुंचा दक्षिण पश्चिम मानसून, जल्द केरल में देगा दस्तक

नई दिल्ली:  भारतीय अर्थव्यवस्था कृषि आधारित है और इसके लिए मानसून जीवनरेखा की तरह काम …