Monday, May 20, 2024 at 10:05 PM

राहुल गांधी का भाजपा पर तीखा प्रहार, बोले- जाति आधारित जनगणना को कोई भी नहीं रोक सकता

नई दिल्ली:  कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ने बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा पर तीखा प्रहार किया है। उन्होंने कहा कि जो अपने आप को देशभक्त कहते हैं वो 90 प्रतिशत लोगों के लिए न्याय सुनिश्चित करने वाली जाति आधारित जनगणना के एक्स-रे के विरोध में खड़े हो गए हैं। राहुल ने पीएम मोदी और भाजपा पर निशाना साधते हुए कहा कि वे जाति आधारित जनगणना को रोक नहीं सकते।

राहुल गांधी का पीएम मोदी और भाजपा पर तीखा प्रहार
राहुल गांधी ने बताया कि देश की 90 फीसदी आबादी के लिए न्याय सुनिश्चित कराना उनकी जिंदगी का मिशन बन गया है। कांग्रेस नेता ने दावा किया कि पीएम मोदी उनकी पार्टी के क्रांतिकारी घोषणापत्र से घबरा गए हैं। उन्होंने कहा, “मैं सिर्फ यह कह रहा हूं कि हिंदुस्तान में आज 90 प्रतिशत लोगों के साथ भयंकर अन्याय हो रहा है। मैंने ऐसा नहीं कहा कि हम कोई कार्रवाई करेंगे, हमने सिर्फ यह कहा कि यह पता लगाएंगे कि कितना अन्याय हो रहा है।”

कांग्रेस सांसद ने आगे कहा, “अगर किसी को चोट लगी है और मैं कहूं कि आप एक्स-रे करा लीजिए, तो इससे किसी को एतराज तो नहीं होना चाहिए। मीडिया को देखिए, नरेंद्र मोदी को देखिए, जब मैंने सिर्फ यह कहा कि पता करते हैं कितना अन्याय है तो यह सारे के सारे खड़े हो गए और कहने लगे कि देश को तोड़ने और बांटने की कोशिश हो रही है। एक्सरे से क्या बंटेगा? इससे तो 90 प्रतिशत लोगों को पता चलेगा कि उनकी भागीदारी कितनी है।”

मिशन के साथ समझौता नहीं: राहुल गांधी
राहुल गांधी ने आगे कहा कि अगर आपको महाशक्ति बनना है और चीन से मुकाबला करना है तो 90 फीसदी लोगों की शक्ति का इस्तेमाल तो करना ही होगा। जाति आधारित जनगणना का एक्स-रे और न्याय भाजपा के लिए राजनीतिक मुद्दा नहीं है। उन्होंने आगे कहा, “यह मेरे जिंदगी का मिशन है। राजनीति के साथ समझौता किया जा सकता है, लेकिन मिशन के साथ कोई समझौता नहीं।” राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री मोदी पर अपने चुनिंदा उद्योगपति मित्रों के 16 लाख करोड़ रुपये माफ करने के आरोप भी लगाए हैं। उन्होंने बताया कि उनकी पार्टी इस पैसे का एक हिस्सा 90 प्रतिशत आबादी को देना चाहती है।

Check Also

निकोबार द्वीपसमूह पहुंचा दक्षिण पश्चिम मानसून, जल्द केरल में देगा दस्तक

नई दिल्ली:  भारतीय अर्थव्यवस्था कृषि आधारित है और इसके लिए मानसून जीवनरेखा की तरह काम …