Wednesday, August 17, 2022 at 10:35 AM

घर से निकलने से पहले Sunscreen का करते हैं प्रयोग तो आजमाएं ये उपाए

सनस्क्रीन आजकल हर किसी की डेली स्किनकेयर रूटीन का हिस्सा बन गया है, खासकर लड़कियों की। यह त्वचा को सन डैमेज और सनबर्न से बचाता है। स्किनकेयर विशेषज्ञ भी अक्सर सलाह देते हैं कि बिना सनस्क्रीन लगाए बाहर न निकलें।  एक नए अध्ययन के अनुसार जिंक ऑक्साइड वाला सनस्क्रीन पराबैंगनी विकिरण के संपर्क में आने के 2 घंटे बाद बेअसर हो जाता है।

शोधकर्ताओं ने कहा कि सनस्क्रीन यूवी एक्सपोजर और त्वचा कैंसर को कम करने में मदद करते हैं लेकिन कुछ सनस्क्रीन फॉर्मूलेशन के उपयोग में अनपेक्षित विषाक्तता हो सकती है।

जिंक ऑक्साइड या टाइटेनियम डाइऑक्साइड जैसे अकार्बनिक यौगिकों वाले सनस्क्रीन, जो यूवी किरणों को रोकते हैं, को कार्बनिक छोटे-अणु यौगिकों के सुरक्षित विकल्प के रूप में अधिक से अधिक भारी रूप से विपणन किया जा रहा है जो किरणों को अवशोषित करते हैं।

शोधकर्ताओं ने अमेरिका और यूरोप में उपलब्ध विभिन्न उत्पादों से यूवी फिल्टर युक्त पांच एसपीएफ़15 मिश्रण वाले सनस्क्रीन बनाएं, जिसमें सक्रिय तत्व और 6% जिंक ऑक्साइड भी थी।

Check Also

क्या आप भी ठंडे पानी से चेहरा धोते हैं तो जान लें इसके कुछ फायदें

हम सभी सुबह उठकर सबसे पहले अपना चेहरा धोते हैं। चेहरे को धोना और उसकी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *