Monday, April 22, 2024 at 6:24 PM

आपको रोजाना कितना प्रोटीन चाहिए? आवश्यकताओं को पूरा कर देंगी बस ये तीन चीजें

शरीर को स्वस्थ रखने और मांसपेशियों के विकास में प्रोटीन की महत्वपूर्ण भूमिका मानी जाती है। इसकी कमी से न सिर्फ आप दुबले-पतले और कमजोर हो सकते हैं, साथ ही ये बालों और त्वचा के लिए भी दिक्कतें बढ़ाने वाली हो सकती है। यही कारण है कि स्वास्थ्य विशेषज्ञ सभी लोगों को रोजाना आहार से पर्याप्त मात्रा में प्रोटीन प्राप्त करने की सलाह देते हैं। पर यहां ध्यान रखना जरूरी है कि प्रोटीन की हमारे लिए जितनी आवश्यकता है, इसकी अधिकता उतना ही समस्याकारक भी हो सकती है।

स्वास्थ्य विशेषज्ञ बताते हैं, प्रोटीन स्वस्थ आहार का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। प्रोटीन रासायनिक ‘बिल्डिंग ब्लॉक्स’ से बने होते हैं जिन्हें अमीनो एसिड कहा जाता है। आपका शरीर मांसपेशियों और हड्डियों के निर्माण और मरम्मत करने, हार्मोन और एंजाइम बनाने के लिए अमीनो एसिड का उपयोग करता है। यानी इसकी कमी से शरीर की संरचना प्रभावित हो सकती है।

रोजाना कितने मात्रा में प्रोटीन जरूरी?

आपको कितना प्रोटीन चाहिए? ये बड़ा सवाल रहा है। अध्ययनकर्ता कहते हैं, आपकी कैलोरी का 10 से 35% तक हिस्सा प्रोटीन से आना चाहिए। विशेषज्ञ बताते हैं, शरीर के वजन के प्रति किलोग्राम हिसाब से 0.8 ग्राम प्रोटीन जरूरी होता है। यानी कि अगर आपका वजन 75 किलोग्राम है तो आपको 60 ग्राम प्रोटीन लेना जरूरी है।

आहार के माध्यम से आसानी से इस पोषक तत्व की पूर्ति की जा सकती है। आइए जानते हैं कि औसतन 60 ग्राम प्रोटीन के लिए आपको किन चीजों का सेवन करना चाहिए।

अंडों से 26 ग्राम प्रोटीन

स्वास्थ विशेषज्ञ बताते हैं, प्रोटीन प्राप्त करने के लिए अंडे खाना आपके लिए बहुत फायदेमंद हो सकता है, ये प्रोटीन का एक अच्छा स्रोत है। अंडे के सफेद भाग को शुद्ध प्रोटीन माना जाता है। पूरे अंडे जिसमें जर्दी भी शामिल होती है जिससे विटामिन, खनिज, एंटीऑक्सीडेंट और स्वस्थ वसा सहित कई पोषक तत्व प्राप्त हो सकते हैं।

100 ग्राम अंडे से करीब 13 ग्राम प्रोटीन प्राप्त हो सकता है। 2 अंडे अमूमन 100 ग्राम के होते हैं। यानी कि अगर आप रोजाना 4 अंडे खाते हैं तो इससे 26 ग्राम प्रोटीन मिल सकता है।

Check Also

भारत में मस्तिष्क विकारों के बढ़ते मामले चिंताजनक, स्वास्थ्य देखभाल को लेकर सरकार का बड़ा फैसला

मस्तिष्क विकार स्वास्थ्य क्षेत्र पर बढ़ते दबाव के प्रमुख कारणों में से एक हैं। भारत …