Thursday, July 7, 2022 at 4:56 PM

अनाज की जमाखोरी और वितरण में भेदभाव पर भारत ने जताई चिंता कहा-“अनाज का बंटवारा कोरोना टीकों की तरह न हो”

भारत ने अनाज की जमाखोरी और वितरण में भेदभाव पर चिंता जताई है। पश्चिमी देशों से भारत ने आह्वान किया कि अनाज का बंटवारा कोरोना टीकों की तरह नहीं होना चाहिए।केंद्रीय मंत्री मुरलीधरन ने कहा कि हम श्रीलंका को भी मुश्किल दौर में खाद्य सहायता समेत और मदद दे रहे हैं।

उसने कहा कि गेहूं के निर्यात पर प्रतिबंध लगाने के उसके फैसले से यह सुनिश्चित होगा कि वह जरूरतमंद लोगों की जरूरतों को पूरा कर सकता है।

विदेश राज्यमंत्री वी. मुरलीधरन ने यहां कहा, ”कम आय वाले विभिन्न वर्ग आज अनाज की बढ़ती कीमतों और उनकी पहुंच तक मुश्किल की दोहरी चुनौतियों का सामना कर रहे हैं। यहां तक कि पर्याप्त भंडार वाले भारत जैसे देशों ने खाद्यान्न में अनुचित वृद्धि देखी है। यह साफ है कि जमाखोरी की जा रही है। ”

भारत ने उच्च स्तरीय बैठक में संयुक्त राष्ट्र में पहली बार गेहूं के निर्यात पर प्रतिबंध के मुद्दे पर अपनी बात रखी। मुरलीधरन ने कहा कि भारत सरकार गेहूं की वैश्विक कीमतों में अचानक आई वृद्धि को स्वीकार करती है, जिससे हमारी और हमारे पड़ोसियों तथा अन्य कमजोर देशों की खाद्य सुरक्षा खतरे में पड़ गई है।

Check Also

मुश्किलों से घिरे ब्रिटेन के PM बोरिस जॉनसन, बगावत के चलते 39 मंत्री और संसदीय सचिव ने छोड़ा पद

ब्रिटेन में दो मंत्रियों के पद छोड़ने के बाद राजनीतिक संकट गहराता जा रहा है। …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *