Saturday, July 20, 2024 at 9:27 AM

मोतियाबिंद से पीड़ित लोगों की आंखों पर बनने लगता हैं धुंधला बिम्ब

मोतियाबिंद  एक आम आंखों की समस्या है, जिसमें आंख के प्राकृतिक लेंस धुंधले या अस्पष्ट हो जाते हैं। आसान भाषा में समझें तो इस स्थिति में दिखना कम हो जाता है।

 तेज रोशनी में भी देखने में दिक्कत होती है। जो कई लोगों में बढ़ती उम्र के साथ देखने को मिलती है।  प्रति जागरूकता फैलाने के मकसद से हर साल जून महीने को मोतियाबिंद जागरूकता माह के रूप मनाया जाता है।

अगर किसी को मोतियाबिंद हो जाए तो, उस व्यक्ति का साफ देख पाना मुश्किल हो सकता है। समय के साथ मोतियाबिंद अंधेपन का कारण बन सकता है। चिकित्सा विशेषज्ञों के अनुसार यह समस्या अक्सर बढ़ती हुई उम्र के लोगों को ज्यादा परेशान करती है।

हमारे लिए रेटिना से दिमाग तक जाती है, ताकि हमें इस बात का पता चल सके कि, हम क्या देख रहे हैं। आईरिस के पीछे मौजूद लेंस प्रोटीन से बना होता है। जैसे-जैसे उम्र बढ़ती है, वैसे-वैसे यह प्रोटीन बदलने लगता है और देखने की क्षमता कम होती चली जाती है।

अगर आपको कुछ परेशानी हो रही है, तो उसका इलाज चश्मा पहनकर भी किया जा सकता है। मोतियाबिंद के बढ़ने की वजह से लोगों को रात में गाड़ी चलाते वक्त साफ देखने में समस्या महसूस हो सकती है।  इसके शुरुआती लक्षणों को पहचानना जरूरी है।

Check Also

गर्मियों में आपकी त्वचा का ग्लो बरकरार रखेंगे ये होममेड मॉइश्चराइजर

ज्यादातर लोगों को लगता है कि मॉइश्चराइजर का इस्तेमाल सिर्फ सर्दी के मौसम में किया …