Sunday, June 23, 2024 at 5:32 PM

पूर्व PM देवेगौड़ा के बेटे और पोते की बढ़ीं मुश्किलें, एक बार फिर लुकआउट नोटिस जारी

बंगलूरू: कर्नाटक की राजनीति में हलचल मची हुई है। कई महिलाओं से यौन शोषण के आरोप झेल रहे पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवेगौड़ा के पोते प्रज्ज्वल रेवन्ना की मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं। उनके खिलाफ दुष्कर्म की धाराओं में केस दर्ज हो गया है। वहीं, प्रज्वल रेवन्ना और उनके पिता एचडी रेवन्ना के खिलाफ एक बार फिर लुकआउट नोटिस जारी किया गया है। इसकी जानकारी खुद गृह मंत्री जी परमेश्वर ने दी। वहीं, सीएम सिद्धारमैया ने इस मामले को लेकर एसआईटी अधिकारियों के साथ बैठक की। साथ ही अधिकारियों को जांच में तेजी लाने के निर्देश दिए।

गृह मंत्री परमेश्वर ने बताया, ‘हमने एचडी रेवन्ना और प्रज्वल रेवन्ना दोनों के खिलाफ लुकआउट नोटिस जारी किया है। हमने एचडी रेवन्ना को लुकआउट नोटिस जारी किया था क्योंकि वह विदेश जाने की योजना बना सकते हैं। लेकिन दूसरा नोटिस कल दिया गया। उनके पास नोटिस का जवाब देने के लिए आज शाम तक का समय है।’

कर्नाटक के गृह मंत्री जी परमेश्वर ने कहा, ‘रेवन्ना ने मैसूर अपहरण मामले में भी जमानत की अर्जी लगाई है। इस मामले में एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया गया है।’

रेवन्ना के घर पहुंची एसआईटी
एसआईटी के अधिकारी जेडीएस नेता एचडी रेवन्ना और प्रज्ज्वल रेवन्ना के होलेनारसिपुरा स्थित आवास पर पहुंचे हैं।

एचडी रेवन्ना के खिलाफ क्या है अपहरण का मामला?
दो मई को मैसूरु जिले के केआर नगर पुलिस स्टेशन में एक व्यक्ति ने शिकायत दर्ज कराई थी, जिसमें आरोप लगाया गया था कि उसकी मां 29 अप्रैल से लापता है और बाद में, उसके यौन उत्पीड़न के वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गए। अपनी शिकायत में व्यक्ति ने कहा कि उसने और उसकी मां ने होलेनरासीपुरा में रेवन्ना के आवास और फार्महाउस पर छह साल तक काम किया। हालांकि, उसने तीन साल पहले नौकरी छोड़ दी थी।

यह है मामला
बता दें कि 33 वर्ष के प्रज्ज्वल रेवन्ना पूर्व प्रधानमंत्री और जेडीएस सुप्रीमो एचडी देवगौड़ा के पोते और विधायक व पूर्व मंत्री एचडी रेवन्ना के बेटे हैं। उनके खिलाफ कई महिलाओं के साथ यौन शोषण के आरोप लगाए गए हैं और कई इससे जुड़े कई वीडियो वायरल हो गए हैं। राज्य सरकार ने इस मामले में एसआईटी का गठन किया है। प्रज्ज्वल कर्नाटक की हासन लोकसभा सीट से चुनाव लड़ रहे हैं, जहां 26 अप्रैल को मतदान हुआ है। पुलिस सूत्रों के मुताबिक जैसे ही सांसद से जुड़े वीडियो सामने आने लगे, वह वोटिंग खत्म होने के बाद वह देश छोड़कर भाग गए।

Check Also

पवन कल्याण को नहीं हरा पाए तो जगनमोहन की पार्टी के नेता ने बदला अपना नाम, चुनाव में ही किया था वादा

अमरावती: इस वर्ष लोकसभा और विधानसभा चुनाव के दौरान पक्ष विपक्ष के नेताओं ने कई दावे …