Monday, July 15, 2024 at 10:48 PM

बाढ़ से असम में हालात बिगड़े, 22 लाख लोग प्रभावित, 92 जंगली जानवरों की मौत

असम में बाढ़ की स्थिति गंभीर बनी हुई है। पूर्वोत्तर राज्य की प्रमुख नदियां खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं और बाढ़ से करीब 22 लाख लोग प्रभावित हैं। असम के मुख्यमंत्री हिमंता बिस्व सरमा ने डिब्रूगढ़ में बाढ़ प्रभावित कई इलाकों का दौरा किया। राज्य के 29 जिले बाढ़ से प्रभावित हैं। हालात ये हैं कि असम हाल के वर्षों में सबसे भीषण बाढ़ से जूझ रहा है।

इस साल राज्य में बाढ़ और भूस्खलन से 62 लोगों की मौत
असम में बाढ़ के कारण मरने वाले जानवरों की संख्या बढ़कर 92 हो गई है। 95 जानवरों को बचाया गया है। काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान और टाइगर रिजर्व ने यह जानकारी दी है। इससे पहले शुक्रवार तक 77 जंगली जानवरों की मौत की जानकारी सामने आई थी। राज्य में इस साल बाढ़, भूस्खलन और तूफान में मरने वालों की संख्या बढ़कर 62 हो गई है जबकि तीन लोग लापता हैं। इनमें से बाढ़ में 52 लोगों की मौत हो गई और 12 अन्य लोगों की भूस्खलन और तूफान के कारण जान गई। राज्य में बाढ़ से सबसे अधिक प्रभावित धुबरी जिला है, जहां 6.48 लाख लोग बाढ़ से त्रस्त हैं। दरांग जिले में 1.90 लाख और कछार में 1.45 लाख लोग बाढ़ से प्रभावित हुए हैं।

सीएम ने मदद का किया एलान
मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने शुक्रवार को गंभीर रूप से बाढ़ से प्रभावित डिब्रूगढ़ जिले से लौटने के बाद देर रात अधिकारियों के साथ बैठक की और राज्य में बाढ़ की स्थिति की समीक्षा की। मुख्यमंत्री ने कहा, ‘डिब्रूगढ़ के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का दौरा करने के बाद, हमने ‘असम आरोग्य निधि-एक स्वास्थ्य वित्तीय सहायता योजना’ सहित कई मामलों की समीक्षा की।’ सरमा ने यह भी कहा कि उन्होंने अधिकारियों से विशेष रूप से ‘दुर्लभतम मामलों और उन लोगों के आवेदनों को प्राथमिकता देने के लिए कहा है जो किसी मौजूदा योजना के तहत कवर नहीं हैं।’

Check Also

90 वर्षीय अर्थशास्त्री बोले- नोबेल के बिना जिंदगी बर्बाद नहीं होती; बची उम्र पढ़कर गुजार दूंगा

मुझे नहीं लगता कि नोबेल नहीं मिला होता तो मेरी जिंदगी बर्बाद होती। जिंदगी में …