Monday, April 22, 2024 at 12:32 PM

भारतीयों को फिरौती के लिए धमकी मिलने का मामला, कनाडा पुलिस ने बनाई राष्ट्रीय जांच समिति

कनाडा में बीते दिनों भारतीय मूल के लोगों को फिरौती के लिए धमकी भरे कॉल आने का मामला सामने आया था। अब खबर आयी है कि कनाडा की पुलिस ने एक राष्ट्रीय स्तर की टीम बनाई गई है, जो इन मामलों की जांच करेगी। रॉयल कनैडियन माउंटेड पुलिस की नेशनल कॉर्डिनेशन और सपोर्ट टीम ब्रिटिश कोलंबिया, ओंटारियो और अल्बर्टा राज्यों की पुलिस के साथ मिलकर इन घटनाओं की जांच कर रही है। इन तीन राज्यों में ही भारतीय और दक्षिण एशियाई मूल के नेताओं को फिरौती के लिए ही धमकी मिलने की खबरें सामने आयीं थी।

कनाडा पुलिस का दावा- संगठित अपराध का है मामला
कनाडा पुलिस के एक शीर्ष अधिकारी ने बताया कि जांच टीम फिरौती के लिए आयी धमकी भरी कॉल के पीछे के मकसद की जांच कर रही है। उन्होंने कहा कि ये मामला संगठित अपराध से जुड़ा है। बीते कुछ माह पहले कनाडा में दक्षिण एशियाई मूल के लोगों खासकर भारतीय मूल के लोगों को फिरौती के लिए धमकी भरे कॉल आये थे।

इस मामले में कई शिकायत दर्ज हुईं। कनाडा में खालिस्तानी आतंकी हरदीप सिंह निज्जर की हत्या के बाद से कनाडा में भारतीय मूल के लोगों खासकर हिंदुओं के खिलाफ हमले बढ़े हैं। कई हिंदू मंदिरों को भी निशाना बनाया गया है।

भारतीय मूल के लोगों के घरों पर हुई थी फायरिंग
कुछ भारतीय मूल के लोगों के घरों पर फायरिंग की घटनाएं भी हुईं। अपराधियों ने कॉल करके लोगों से सुरक्षा के बदले 20 लाख डॉलर की फिरौती मांगी थी। बीते साल नवंबर में कनाडा की पुलिस ने दावा किया था कि इन घटनाओं के पीछे भारत के एक आपराधिक गैंग का हाथ है, जो कनाडा में दक्षिण एशियाई मूल के लोगों को निशाना बना रहा है।

बीते साल दिसंबर में कनाडा में वैदिक हिंदू कल्चरल सोसाइटी के अध्यक्ष के बेटे के घर पर भी फायरिंग की घटना हुई थी। इस मामले में कनाडा पुलिस ने दो लोगों को गिरफ्तार किया था। हालांकि बाद में पूछताछ के बाद दोनों को छोड़ दिया गया था।

Check Also

गूगल दफ्तर में कर्मचारियों का विरोध प्रदर्शन, इस्राइली सेना और सरकार के साथ सभी संबंध तोड़ने का दबाव

इस्राइल और हमास के बीच छिड़ी जंग का असर गूगल दफ्तर में भी दिखाई दिया। …