Friday, July 1, 2022 at 10:26 PM

आखिर क्यों यूपी और बिहार में हो रहा ‘अग्निपथ भर्ती योजना’ के खिलाफ प्रदर्शन, आंकड़ों से समझें पूरी कहानी

सेना की नई भर्ती योजना ‘अग्निपथ’ को लेकर देशभर में बवाल मचा हुआ है।रक्षा मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार सबसे ज्यादा यूपी के 2.14 लाख जवान उत्तर प्रदेश के हैं। पिछले दो साल से कोरोना महामारी के कारण ऐसा नहीं कर सके. वहीं, एयर चीफ मार्शल वीआर चौधरी ने कहा कि अगले शुक्रवार यानी 24 जून से भर्ती प्रक्रिया शुरू कर दी जाएगी. इनमें 1.44 लाख युवा थल सेना में ओआर हैं, जबकि 18407 जेसीओ हैं।

सेना प्रमुख ने एक बयान में कहा कि उम्र सीमा में बढ़ोतरी के फैसले का निर्णय हमारे कई युवा, ऊर्जावान और देशभक्त युवाओं के लिए एक अवसर प्रदान करेगा, जो COVID-19 के बावजूद भर्ती रैलियों में शामिल होने की तैयारी कर रहे थे.

जनरल पांडे ने कहा, “भर्ती प्रक्रिया का कार्यक्रम जल्द ही घोषित किया जाएगा. हम अपने युवाओं से भारतीय सेना में अग्निशामक के रूप में शामिल होने के इस अवसर का लाभ उठाने का आह्वान करते हैं.

कम से कम 14 राज्यों के युवा सड़क पर आ गए हैं। यूपी-बिहार जैसे राज्यों में विरोध हिंसक हो चुका है। यहां ट्रेनें फूंकी जा रहीं हैं। सरकारी दफ्तरों, भाजपा नेताओं और भाजपा कार्यालयों पर पथराव किया जा रहा है।

केंद्र सरकार ने अग्निपथ योजना के विरोध के बीच अभ्यर्थियों की आयु सीमा को 21 से बढ़ाकर 23 साल कर दी है. ये स्पष्ट किया गया है कि ये छूट सिर्फ इस साल सेना में भर्ती के लिए किया गया है.

इस मामले में दूसरे नंबर पर राजस्थान है, जहां के 1.05 लाख युवा भारतीय सेना में अलग-अलग पदों पर तैनात हैं। तीसरे नंबर पर बिहार है। यहां के 1.02 लाख युवा सेना में हैं। चौथे नंबर पर पंजाब आता है। पंजाब के 94 हजार 723 युवा भारतीय सेना के तीनों अंगों में सेवा दे रहे हैं।

Check Also

नाटो में शामिल होने की फिनलैंड और स्वीडन को क्या मिलेगी सजा, पुतिन ने दे डाली सख्त चेतावनी

रूस और यूक्रेन युद्ध के बीच  बीते कुछ दिनों से रूसी सैनिक लगातार यूक्रेन के …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *