Monday, July 15, 2024 at 10:21 PM

मकान और होटल पर चला बुलडोजर तो पत्नी संग मौके पर पहुंचा राजीव राना, पुलिस ने किया गिरफ्तार

बरेली:  बरेली के पीलीभीत बाईपास पर हुए बवाल के मामले में आरोपी प्रॉपर्टी डीलर राजीव राना के होटल, ऑफिस और मकान पर गुरुवार को बीडीए का बुलडोजर चला। ध्वस्तीकरण की कार्रवाई होते ही राजीव राना, अपनी पत्नी-बेटी के साथ मौके पर पहुंच गया। पुलिस ने तुरंत उसे गिरफ्तार कर लिया। सीओ तृतीय अनीता चौहान ने राना को पकड़कर कार में बैठाया। इसके बाद वह राना को लेकर रवाना हो गई। पुलिस उससे पूछताछ करेगी।

22 जून की सुबह पीलीभीत बाईपास पर प्लॉट पर कब्जे को लेकर प्रॉपर्टी डीलर राजीव राना और आदित्य उपाध्याय के गुटों में जमकर फायरिंग हुई थी। बीच सड़क पर खुलेआम फायरिंग की घटना से शहर की कानून व्यवस्था पर सवाल उठे थे। शासन ने इस मामले में रिपोर्ट तलब की थी। पुलिस ने आदित्य उपाध्याय के चौकीदार रोहित की ओर से रिपोर्ट दर्ज की थी। इसमें भाजपा के पूर्व विधायक राजेश मिश्रा उर्फ पप्पू भरतौल, उनके नजदीकी प्रॉपर्टी डीलर राजीव राणा समेत 12 को नामजद किया गया, जबकि 150 हमलावर अज्ञात हैं। वहीं दरोगा राजीव प्रकाश की ओर से दर्ज एफआईआर में आठ नामजद हैं। इस मामले में अब तक 21 आरोपियों को जेल भेजा चुका है।

मुख्य आरोपी राजीव राना फरार चल रहा था। आरोपी राजीव राना की ओर से कोर्ट में सरेंडर अर्जी दी गई थी। इस पर सुनवाई के लिए कोर्ट ने 29 जून की तारीख तय की है। लेकिन इससे पहले ही पुलिस- प्रशासन के साथ बीडीए की टीम बुलडोजर लेकर गुरुवार को सुबह उसके होटल और मकान के बाहर पहुंच गई। उसके होटल के बाहरी हिस्से को ढहा दिया गया। मकान और दफ्तर पर भी बुलडोजर चला है। कार्रवाई के बीच पहुंची राना की पत्नी और बेटी होटल और मकान टूटता देख रो पड़ीं। राना ने बेटी ने कहा कि घटना के वक्त उसके पिता वहां नहीं थे। सबसे पहले आदित्य उपाध्याय ने गोली ने चलाई थी। हम नेतागीरी के शिकार हुए हैं। हमें इंसाफ चाहिए।

Check Also

आरक्षण के मुद्दे को और धार देगी कांग्रेस, अगस्त से शुरू होगा आंदोलन, भर्तियों के जुटाए जा रहे सुबूत

लखनऊ:  कांग्रेस आरक्षण के मुद्दे को निरंतर धार देगी। इसके लिए पार्टी शैक्षिक एवं चिकित्सा …