Friday, March 1, 2024 at 4:11 AM

‘भारतीय सिनेमा दुनिया में सर्वश्रेष्ठ…,’ रानी मुखर्जी के इस बयान पर मचा बवाल, हो रहीं ट्रोल

रानी मुखर्जी बेहतरीन अदाकारी के साथ-साथ अपने बेबाक बयान के लिए भी जानी जाती हैं। अभिनेत्री को हर मुद्दे पर खुलकर बात करते देखा जाता है। इसी कड़ी में रानी ने भारतीय सिनमा को दुनिया में सर्वश्रेष्ठ बता दिया है। अभिनेत्री का बयान सोशल मीडिया पर ताबड़तोड़ वायरल हो रहा है। जहां एक वर्ग रानी के समर्थन में आया है, तो वहीं दूसरा वर्ग अभिनेत्री की क्लास लगाते देखा जा रहा है।

रानी मुखर्जी ने हाल ही में कहा कि भारत, दुनिया में सबसे अच्छी फिल्में बनाता है। उन्होंने आईपीएस अधिकारी मनोज कुमार शर्मा के जीवन पर आधारित विक्रांत मैसी अभिनीत ’12वीं फेल’ का उदाहरण दिया था। गलाटा प्लस के साथ हाल ही में एक बैठक के दौरान, रानी ने फिल्म निर्माता पृथ्वी कोनानूर के उस बयान के जवाब में टिप्पणी की, जिसमें उन्होंने कहा था कि जहां तक विचारों का सवाल है, ईरानी सिनेमा भारतीय फिल्मों से बेहतर है। रानी की प्रतिक्रिया को एक्स (पूर्व में ट्विटर) पर आलोचना का सामना करना पड़ रहा है।

रानी मुखर्जी के हस्तक्षेप करने से पहले, पृथ्वी कोनानूर ने कहा था, ‘मैं लोगों से ईरानी फिल्में देखने के लिए कहता हूं। उन्हें देखें। आप हमारी फिल्मों और उनकी फिल्मों के बीच एक बड़ा अंतर देख सकते हैं। मुझे लगता है कि किसी कारण से, हम वास्तव में ईरानी सिनेमा से बहुत पीछे हैं। यह एक ईमानदार राय है। मैं लोगों से अनुरोध करता हूं कि वे ईरानी फिल्में देखें और देखें कि वे विचारों के मामले में कितनी उन्नत हैं, शायद तकनीक के मामले में नहीं, लेकिन विचारों के मामले में वे कहां हैं।’

वहीं, रानी मुखर्जी ने कहा, ‘इसलिए मैं यहां कुछ कहना चाहूंगी क्योंकि जब वे कहते हैं कि हमें दूसरे लोगों के सिनेमा से सीखना चाहिए तो मुझे थोड़ा बुरा लगता है। मेरा मानना है कि भारतीय सिनेमा दुनिया में सर्वश्रेष्ठ है, इसलिए मैं इससे सहमत नहीं होऊंगी। मुझे वास्तव में खेद है क्योंकि यदि आप उन फिल्मों के बारे में बात करना चाहते हैं जो जड़ों से आती हैं, तो मुझे लगता है कि आपको 12वीं फेल फिल्म जरूर देखनी चाहिए। यह विधु विनोद चोपड़ा द्वारा बनाई गई एक शानदार फिल्म है और यह भारत के बारे में बात करती है। सब कुछ बहुत शानदार ढंग से दिखाया गया है। मुझे लगता है कि हम भारत में सबसे विविध फिल्में बनाते हैं। जब आप भारत के बाहर की फिल्मों के बारे में बात करते हैं, तो उनमें भारत जैसी विविधता नहीं होती। मेरा मानना है कि भारतीय सिनेमा के पास देने के लिए बहुत कुछ है और वास्तव में यह दुनिया में सर्वश्रेष्ठ है। मैं भारतीय सिनेमा की तुलना दुनिया के किसी भी अन्य सिनेमा से नहीं करना चाहूंगी क्योंकि हमारे पास सबसे सच्ची कहानियां हैं, सबसे जमीनी कहानियां हैं।’

Check Also

ऑस्कर प्रेजेंटर के पहले राउंड में शामिल हैं ये नाम, भारत में इस दिन होगा अवॉर्ड का सीधा प्रसारण

96वें अकादमी पुरस्कार के पहले दौर की घोषणा हो चुकी है। 10 मार्च को ऑस्कर …