Monday, March 4, 2024 at 6:53 AM

परिजन कर रहे थे अंतिम संस्कार, पहुंची पुलिस… चिता से उठवा ली नौजवान बेटे की लाश; बात सुन सभी रह गए सन्न

उत्तर प्रदेश के एटा में बीती रात एक युवक ने फांसी लगाकर सुसाइड कर लिया। परिजन पुलिस को सूचना दिए बगैर अंतिम संस्कार करने के लिए श्मसान लेकर पहुंचे। इसी समय किसी ने पुलिस को सूचना दे दी। इस पर पुलिस श्मसान पहुंची और अंतिम संस्कार को रुकवा दिया। घटना जलेसर कोतवाली क्षेत्र के नूहखास गांव की है। बताया गया कि गांव निवासी भूरी सिंह का 27 वर्षीय बेटे सत्येंद्र ने घर पर रखी आलमारी में फंदे से झूल गया। उसने पत्नी की साड़ी का ही फंदा बनाया था। घरवालों ने देखा तो चीख पुकार मच गई। शोर सुनकर गांव के लोग आ गए। ग्रामीण परेशान परिजन को ढांढस बधाते रहे। परिजन अंतिम संस्कार कर ही रहे थे कि पुलिस पहुंच गई। पुलिस को देखकर वह लोग सन्न रह गए। इसके बाद पुलिस ने शव को चिता से उठवाया और पोस्टमार्टम के लिए भेजा।

परिजन ने बताया कि बेटा शराब पीने का आदी था। इसकी वजह से आए दिन घर में कलह होती थी। इससे पत्नी भी काफी परेशान रहती है। मंगलवार की शाम भी वह काफी शराब पीकर आया था। इस पर पिता व मां ने पीट दिया था। इसके बाद वह खाना खाकर सो गया। रात करीब 11 बजे फंदे पर लटका देखा गया। करीब 10 वर्ष पहले सत्येंद्र की शादी हुई थी। एक बेटी है। समझाने का काफी प्रयास किया गया लेकिन कोई असर नहीं पड़ा। अब जान दे दी।

साले ने लगाया हत्या का आरोप
प्रभारी निरीक्षक अमित कुमार ने बताया कि सत्येंद्र शराब पीने का आदी था। डांटने पर फंदा लगाकर जान दे दी। उसके साले श्रीनिवास निवासी मतवारी, थाना विजयगढ़, जिला अलीगढ़ ने फोन करके पिता पर हत्या करने का आरोप लगाया। इस पर पुलिस ने श्मशान पहुंचकर शव को कब्जे में लिया है। बताया कि उसका साला पहले भांजी के नाम जमीन कराना चाहता था, बाद में अंतिम संस्कार। इसको लेकर दोनों पक्षों में नोंक झोंक भी हुई है।

Check Also

रामलला के दरबार में फफक कर रो पड़े विधायक, बोले- सपा नेतृत्व ने अयोध्या आने से रोका था

गोसाईगंज से समाजवादी पार्टी के बाहुबली विधायक अभय सिंह ने शनिवार को रामलला के दर्शन …