Tuesday, July 16, 2024 at 4:44 AM

‘शुरू हुआ इस्लामाबाद-बीजिंग सहयोग का नया युग’, प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ ने बांधे चीन के तारीफों के पु

नकदी संकट से जूझ रहे पाकिस्तान के प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ ने एक बार फिर चीन की तारीफ की। उन्होंने कहा कि सूचना प्रौद्योगिकी (आईटी), संचार, खनन और उर्जा क्षेत्रों में इस्लामाबाद-बीजिंग सहयोग का एक नया युग शुरू हुआ है। शरीफ ने कहा, इससे आर्थिक विकास होगा और समय की कसौटी पर खरे उतरे द्विपक्षीय संबंध गहरे होंगे।

रेडियो पाकिस्तान की खबर के मुताबिक, शहबाज शरीफ ने यह टिप्पणी शनिवार को इस्लामाबाद में की, जहां उनके हालिया चीन दौरे के दौरान हुए समझौतों के क्रियान्वयन पर एक समीक्षा बैठक आयोजित की गई थी। प्रधानमंत्री शरीफ ने कहा कि इन क्षेत्रों में पाकिस्तान-चीन सहयोग को बढ़ावा देने से आर्थिक विकास, क्षेत्रीय संबंधों और दोनों देशों के बीच संबंधों को गहरा करने में मदद मिलेगी।

पाकिस्तान-चीन दोस्ती का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि चीन ने हमेशा मुश्किल वक्त में पाकिस्तान का साथ दिया है। उन्होंने कहा, चीन सबसे मजबूत आर्थिक शक्ति के रूप में उभर है और पाकिस्तान उसका अनुसरण कर सकता है। पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज (पीएमएल-एन) के नेता ने कहा कि उनके चीन दौरे के दौरान हस्ताक्षरित समझौतों और समझौता ज्ञापनों (एमओयू) के क्रियान्वयन में कोई व्यवधान बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

उन्होंने जूते बनाने वाली चीनी कंपनियों के एक प्रतिनिधिमंडल के बारे में भी जानकारी दी, जो हाल ही में पाकिस्तान में अपने विनिर्माण इकाइयों को स्थानांतरित करने के लिए पाकिस्तान आया था। इन चीनी कंपनियों के पास इस क्षेत्र में 5-8 अरब डॉलर का निवेश करने की क्षमता है। शरीफ ने बताया कि इस साल पाकिस्तान में होने वाले फूड एंड एग्री एक्सपो में चीन की 12 प्रमुख कंपनियां भाग लेंगी।उन्होंने कृषि क्षेत्र में उन्नत प्रशिक्षण के लिए सरकारी छात्रवृत्ति पर पाकिस्तान से एक हजार छात्रों को चीन भेजने के संबंध में प्रगति की भी समीक्षा की।

उन्होंने निर्देश दिए कि गिलगित-बाल्टिस्तान और पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) सहित सभी चार प्रांतों के छात्रों को योग्यता के आधार पर चीन भेजा जाना चाहिए।

Check Also

उपराष्ट्रपति हैरिस ने डोनाल्ड ट्रंप पर लगाए गंभीर आरोप, कहा- वह लोकतंत्र को तानाशाही में बदलना चाहते हैं

अमेरिका में पांच नवंबर को चुनाव होने वाले हैं। ऐसे में सभी राजनीतिक दल अपने …