Tuesday, November 29, 2022 at 2:45 AM

ISRO ने लांच किया संचार उपग्रह GSAT-7A, वायुसेना को मिली नई ताकत

New Delhi. भारत के भूस्थैतिक संचार उपग्रह GSAT-7A का आज श्रीहरिकोटा से प्रक्षेपण यान GSLV-F11 के जरिये प्रक्षेपण कर दिया गया। शाम चार बजकर 10 मिनट पर श्रीहरिकोटा के स्पेसपोर्ट के दूसरे लांच पैड से इसे प्रक्षेपित किया गया। GSAT-7A उपग्रह 2,250 किलोग्राम वजनी है। यह भारतीय क्षेत्र में कू बैंड में वायुसेना को संचार क्षमता प्रदान करेगा। संचार सेवा के उपग्रह के प्रक्षेपण से वायुसेना की नेटवर्किंग क्षमता मजबूत होगी।

ISRO ने लांच किया संचार उपग्रह GSAT-7A, वायुसेना को मिली नई ताकत

इसरो ने कहा कि GSAT-7A का निर्माण भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने किया है और इसका जीवन आठ वर्ष है। यह भारतीय क्षेत्र में केयू-बैंड के उपयोगकर्ताओं को संचार क्षमताएं मुहैया कराएगा।

जीसैट-7 ए भारतीय वायुसेना (आईएएफ) को समर्पित है जो वायु शक्ति को अधिक मजबूती देगा और वायुसेवा को अतिरिक्त सामरिक संचार क्षमताएं प्रदान करेगा। इस संचार तकनीक के जरिए विमानों की संचार क्षमताओं में वृद्धि संभव हो सकेगी।

श्रीहरिकोटा में सतीश धवन स्पेस सेंटर में GSLV-F11 के जरिये संचार उपग्रह GSAT-7A को प्रक्षेपित करने के लिए 26 घंटे की उल्टी गिनती मंगलवार दोपहर दो बजकर 10 मिनट (भारतीय समयानुसार) पर शुरू हुई थी। इसके प्रक्षेपण का समय बुधवार शाम चार बजकर 10 मिनट निर्धारित की गई थी।’’

जीएसएलवी एफ-11 GSAT-7A को जियोसिंक्रोनस ट्रांसफर आर्बिट (जीटीओ) में छोड़ेगा और उसे आनबोर्ड प्रणोदन प्रणाली का इस्तेमाल करते हुए अंतिम भूस्थैतिक कक्षा में स्थापित किया जाएगा। GSLV-F11 इसरो की चौथी पीढ़ी का प्रक्षेपण यान है।

Check Also

पेट्रोल और डीज़ल के दाम आज फिर बढ़े

  दिल्ली- पेट्रोल और डीज़ल के दाम आज फिर बढ़े,दिल्ली में डीजल 95 रुपए प्रति …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *