Monday, April 22, 2024 at 12:34 PM

राजनीतिक संगठन में जान फूंकने की कवायद, तीन मार्च को पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ में संगठनात्मक चुनाव

पाकिस्तान में आम चुनाव के बाद सरकार गठन की तस्वीर लगभग साफ हो चुकी है। प्रधानमंत्री, राष्ट्रपति के नाम सामने आ चुके हैं। शपथ ग्रहण की तारीख का एलान नहीं हुआ है। इसी बीच पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान की पार्टी- पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (PTI) ने संगठनात्मक चुनाव कराने का फैसला लिया है। इमरान की पार्टी में आंतरिक चुनाव तीन मार्च को कराए जा सकते हैं। गुरुवार को जारी बयान के मुताबिक, पीटीआई के संगठनात्मक चुनाव नए सिरे से कराए जाएंगे। बता दें कि आठ फरवरी को आम चुनाव से पहले पाकिस्तान चुनाव आयोग (ECP) ने पीटीआई के आंतरिक चुनाव रद्द कर दिए थे। इमरान खान की पार्टी ने दावा किया था कि पीटीआई में संगठनात्मक चुनाव कराने पर आठ फरवरी के आम चुनाव से ध्यान भटक सकता है।

चुनाव का पूरा कार्यक्रम, मतदान कहां होगा?
आंतरिक यानी इंट्रा पार्टी चुनाव रद्द होने के कई महीने बाद अब आंतरिक चुनाव की तैयारियां हो रही हैं। डॉन अखबार की रिपोर्ट के मुताबिक पीटीआई सदस्य शुक्रवार और शनिवार तक नामांकन पत्र जमा कर सकेंगे। अब तीन मार्च को नए सिरे से इंट्रा-पार्टी चुनाव करवाए जाएंगे।

चुनाव कार्यक्रम के मुताबिक नामांकन पत्रों की जांच 25 फरवरी तक पूरी होगी। नामांकन पर फैसला 27 फरवरी तक किया जाएगा। रिपोर्ट में कहा गया है कि संगठनात्मक चुनावों के लिए मतदान इस्लामाबाद में पीटीआई के केंद्रीय सचिवालय और देश के सभी चार प्रांतों में पीटीआई कार्यालयों में होगा।

आम चुनाव 2024 के परिणाम कैसे रहे?
बता दें कि पाकिस्तान में बीते आठ फरवरी को कराए गए चुनाव काफी दिलचस्प रहे। इमरान खान का समर्थन हासिल कर निर्दलीय चुनाव लड़ने वाले प्रत्याशी सबसे अधिक संख्या में जीते, लेकिन उनके प्रतिद्वंद्वियों ने गठबंधन कर सरकार बनाने का दावा किया।

पूर्व पीएम नवाज शरीफ और पूर्व राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी के साथ आने के बाद पीएमएल-एन और पीपीपी-पी के साथ कुछ और नेताओं ने मिलकर सरकार बनाने की पहल की है। पाकिस्तान चुनाव आयोग की तरफ से घोषित अंतिम चुनाव परिणाम के मुताबिक इमरान खान की पार्टी पीटीआई समर्थित निर्दलीय उम्मीदवार 101, नवाज शरीफ की पार्टी पीएमएल-एन को 75 और बिलावल भुट्टो जरदारी की पार्टी को 54 सीटों पर जीत मिली।

Check Also

गूगल दफ्तर में कर्मचारियों का विरोध प्रदर्शन, इस्राइली सेना और सरकार के साथ सभी संबंध तोड़ने का दबाव

इस्राइल और हमास के बीच छिड़ी जंग का असर गूगल दफ्तर में भी दिखाई दिया। …