Saturday, December 10, 2022 at 1:51 AM

CM योगी ने कहा- पहले भूखों मरने के लिए मजबूर थे लोग, निशुल्क खाद्यान की परिकल्पना अटल जी ने रखी थी

लखनऊ. पूर्व प्रधानमंत्री भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी की 94वीं जयंती पर आज देश उनको नमन कर रहा है। लखनऊ में लोक भवन में आज राज्यपाल राम नाईक के साथ सीएम योगी आदित्यनाथ, गृह मंत्री राजनाथ सिंह व डिप्टी सीएम डॉ. दिनेश शर्मा ने उनकी तस्वीर पर पुष्पांजलि देकर उनको याद किया।

लोक भवन में पूर्व प्रधानमंत्री अटल जी की जयंती के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम को सीएम योगी आदित्यनाथ ने संबोधित किया। उन्होंने कहा कि अटल जी ने सुशासन की नींव रखी थी। अटल जी ने देश के लिए काम किया था। अटल जी आने वाले कालखंड में रहेंगे। उन्होंने कहा कि अटल जी ने बीपीएल व एपीएल राशन कार्ड शुरु किया। उनकी योजना के कारण ही देश में खाने का संकट नहीं है। देश में 90 के दशक में खाने का संकट था।

लोक भवन में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि पहले बड़ी आबादी भूखों मरने के लिए मजबूर थी , उनके लिए निशुल्क खाद्यान की परिकल्पना अटल जी ने रखी थी।

सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि अटल जी लखनऊ से सांसद रहे थे। वह सही मायने में देश के नेता थे। वह सदैव लोगों के जेहन में रहेंगे। अटल जी सभी तबके के नेता थे। बलरामपुर से अटल जी ने सांसद का चुनाव जीतने की शुरुआत की। अटल जी का यूपी से अटूट सम्बंध रहा। हर वर्ग के लोगों को साथ लेकर चलने की कला उनके भीतर थी। उन्होंने कहा कि लोकभवन में आज जहां अटल जी फोटो पर पुष्पांजलि दी गई है वहां वाजपेयी की 25 फुट ऊंची प्रतिमा लगवाने के साथ सरकार उनके नाम पर चल रही योजनाओं को वरीयता पर पूर्ण करेगी। उन्होंने कहा कि सरकार इसी क्रम में आयुष्मान भारत व पेंशन सुविधा का लाभ सभी वंचित पात्र लोगों को दिलायेगी। हमारा अटल जी को कोटि-कोटि नमन।

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का जन्म 1924 में आज ही के दिन मध्य प्रदेश के ग्वालियर में हुआ था। भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी का निधन लंबी बीमारी के बाद 16 अगस्त को लंबी बीमारी के बाद हो गया था। अटल जी की भाषण शैली के लोग दीवाने थे और उनकी इस शैली का विरोधी भी सम्मान करते थे। अटल जी ने अपनी राजनीतिक कुशलता से भाजपा को देश में शीर्ष राजनीतिक स्थान पर पहुंचाया था। उन्होंने भारत को परमाणु शक्ति बनाया। इसके साथ ही उनको भारतीय राजनीति में स्थायी गठबंधन की राजनीति की शुरुआत करने के लिए भी जाना जाता है। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की विचारधारा में पले-बढ़े अटल बिहारी को राजनीति में उदारवाद, समता और समानता के समर्थक के तौर पर याद किया जाता है। आखिरी समय में बीमारी की वजह से सार्वजनिक जीवन से दूर चले गए थे।

Check Also

पेट्रोल और डीज़ल के दाम आज फिर बढ़े

  दिल्ली- पेट्रोल और डीज़ल के दाम आज फिर बढ़े,दिल्ली में डीजल 95 रुपए प्रति …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *