Sunday, September 25, 2022 at 5:12 AM

38 साल बाद शहीद लांसनायक चंद्रशेखर का शव देख बिलख पड़े परिजन, अंतिम दर्शन में नहीं देखने दिया चेहरा

सियाचिन ग्लेशियर में हिमस्खलन में दबकर शहीद हुए लांसनायक चंद्रशेखर हर्बोला का पार्थिव शरीर 38 साल बाद मिला है। पार्थिव शरीर मिलने की सूचना से परिजनों के जख्म एक बार फिर हरे हो गए।इस दौरान उनके परिजनों को शहीद का चेहरा नहीं दिखाई गया। अंतिम दर्शन के लिए परिजनों को केवल दस मिनट का समय ही मिला।

एसडीएम ने शोक संवेदना व्यक्त करते हुए परिजनों को ढांढस बंधाया। बुधवार को शहीद लांस नायक चंद्रशेखर हरबोला का पार्थिव शरीर देशभक्ति के जयघोष के साथ में घर पर लाया गया।14 अगस्त को उनके परिजनों को पार्थिव शरीर मिलने सूचना दी गई थी। पार्थिव शरीर मंगलवार को हल्द्वानी लाया जा रहा था

जहां तकरीबन 10 मिनट परिजनों को अंतिम दर्शन कराए गए। इसके बाद शहीद के पार्थिव शरीर को श्रद्धांजलि स्थल पर लाया गया है। यहां मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी शहीद को श्रद्धांजलि अर्पित की।

मई 1984 में सियाचिन में पेट्रोलिंग के दौरान 20 सैनिकों की टुकड़ी ग्लेशियर की चपेट में आ गई थी। 29 मई को भारी हिमस्खलन से पूरी बटालियन दब गई थी, जिसके बाद उन्हें शहीद घोषित कर दिया गया था। उस समय लांसनायक चंद्रशेखर की उम्र 28 साल थी।

 

Check Also

अंकिता भंडारी मर्डर केस में आक्रोशित भीड़ ने वनंतरा रिजॉर्ट व अचार फैक्ट्री को किया आग के हवाले

अंकिता भंडारी मर्डर केस में उत्तराखंड में उबाल है।भड़के स्थानीय लोगों ने आरोपी पुलकित आर्य …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *