Friday, December 9, 2022 at 11:55 PM

संसद के शीतकालीन सत्र के दौरान संसद हमले की 17वीं बरसी

संसद के शीतकालीन सत्र के दौरान विपक्षी दल अलग-अलग मुद्दों पर सरकार को घेरने की कोशिश में जुटे हैं। बुधवार को सदन की कार्यवाही की शुरुआत के साथ ही विपक्षी दलों ने जमकर हंगामा किया जिसके कारण सदन की कार्यवाही पूरे दिन के लिए स्थगित करनी पड़ी थी।

वहीं, आज भी सदन में हंगामे के आसार हैं। राफेल के मुद्दे के अलावा, राम मंदिर मुद्दा आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा देने की मांग और तमिलनाडु में कावेरी डेल्टा के किसानों के मुद्दे पर विपक्षी दल चर्चा चाहते हैं, जबकि हाल ही में सरकार और आरबीआई के बीच पनपे विवाद ने भी शीतकालीन सत्र में गरमी थोड़ी और बढ़ा दी है। मौजूदा मोदी सरकार का यह अंतिम पूर्णकालिक सत्र है, ऐसे में इसके काफी हंगामेदार रहने की उम्मीद है।

Check Also

पेट्रोल और डीज़ल के दाम आज फिर बढ़े

  दिल्ली- पेट्रोल और डीज़ल के दाम आज फिर बढ़े,दिल्ली में डीजल 95 रुपए प्रति …