Friday, January 27, 2023 at 4:05 PM

महाराष्ट्र में सभी पार्टियों को बीजेपी के विरूद्ध एक साथ आना होगा: नितिन गडकरी

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी (Nitin Gadkari) ने दावा किया है कि महाराष्ट्र में शिवसेना व कांग्रेस पार्टी के बीच गठबंधन की सरकार ज़्यादा दिनों तक नहीं चल पाएगी। साथ ही उन्होंने बोला है कि आने वाले दिनों में शिवसेना को इस गठबंधन की मूल्य चुकानी पड़ेगी।  के संवाददाता अमिताभ सिन्हा ने नितिन गडकरी से महाराष्ट्र से लेकर झारखंड हर स्थान की चुनावी मामले पर खास वार्ता की। पेश हैं इस वार्ता के मुख्य अंश

क्या झारखंड में आपकी पार्टी को खतरा है?
‘मुझे नहीं लगता क्योंकि पीएम नरेंद्र मोदी जी के नेतृत्व में आज तक के इतिहास की अच्छी सरकार झारखंड को दी है। साथ ही झारखंड विकास की दिशा में तेजी से बढ़ रहा है जनता विकास चाहती है व रघुवर दास जी के नेतृत्व में भाजपा की निश्चित रूप से जीत होगी ऐसा मेरा विश्वास है। ‘

झारखंड में सड़क निर्माण

जब से झारखंड का निर्माण हुआ है जितने एनएच नहीं थे उससे ज्यादा एनएच हमने दिए व झारखंड में सड़क के हिसाब से बहुत विकास हुआ है।

‘चुनाव के पहले जो पार्टी आपस में गठबंधन करती हैं व चुनाव जीतने के बाद उसे छोड़कर दूसरी पार्टी के साथ चली जाती है यह सिद्धांतों के आधार पर ठीक बात नहीं है व लोकतंत्र के लिए अच्छी नहीं क्योंकि शिवसेना ने वोट मांगे थे कांग्रेस पार्टी व राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के खिलाफ। महाराष्ट्र में शिवसेना व भाजपा को मिलाकर वोट मिले व ऐसे समय में सिर्फ सीएम पद के लिए भाजपा का साथ छोड़ना कभी भी लोग पसंद नहीं करेंगे। दूसरी बात स्वर्गीय बाला साहब ठाकरे का जो हिंदुत्व था जिसे शिवसेना कहती थी वह हमारे लिए सर्वोपरि है उसे तो कांग्रेस पार्टी एनसीपी मानती नहीं है। यह गठजोड़ किसी सिद्धांत पर नहीं है। यह टिकेगी नहीं है यह अवसरवादी गठबंधन है। महाराष्ट्र की जनता के साथ धोखा हुआ है। जनता ने कांग्रेस पार्टी व राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी को नकारा था व बीजेपी शिवसेना को जिताया था व यह वोट कांग्रेस पार्टी व राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के विरूद्ध था। शिवसेना ने सिद्धांत हीनता दिखाया व उन्होंने कांग्रेस पार्टी के साथ एलायंस किया इसकी मूल्य शिवसेना को भी चुकानी पड़ेगी। मैं अपने प्रोग्राम के विषय में गया था व जहां तक मैं इस बात का शुभचिंतक रहा के महाराष्ट्र में भाजपा-शिवसेना का गठबंधन होना महाराष्ट्र के लिए, मराठी के लिए व हिंदुत्व के लिए निहित है व दुर्भाग्य से यह हो नहीं पाई व जो कुछ हुआ वह अच्छा नहीं हुआ’।

Check Also

जोशीमठ: 258 परिवारों को अस्थायी रूप से राहत शिविरों में किया गया विस्थापित

जोशीमठ भू-धंसाव से मकानों पर दरारें आने के कारण सरकार ने अब तक 258 परिवारों …