Wednesday, December 7, 2022 at 9:00 AM

डरे हुए इकबाल अंसारी की बढ़ाई गई सुरक्षा

 बाबरी मस्जिद पक्षकार इकबाल अंसारी की मांग के बाद उनकी सुरक्षा को बढ़ा दिया गया है. इकबाल अंसारी की सुरक्षा में एक दरोगा और दो गनर और लगाए गए हैं. आपको बता दें कि कुछ दिन पहले ही इकबाल अंसारी ने अयोध्या में 25 नवंबर को राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) और विश्व हिंदू परिषद (VHP) की रैली को लेक चिंता जाहिर की थी. उन्होंने कहा था कि अयोध्या का मुस्लिम समुदाय अगर ऐसी ही दहशत में रहा, तो मुसलमान अपनी जान की हिफाजत के लिए अयोध्या छोड़ने को मजबूर हो जाएंगे. उन्होंने ये चेतावनी दी थी कि अगर 25 नवंबर से पहले उनकी सुरक्षा नहीं बढ़ाई गई, तो वो अयोध्या छोड़ने पर मजबूर हो जाएंगे.अब उनकी सुरक्षा में कुल चार गनर तैनात कर दिए गए हैं.

Image result for डरे हुए इकबाल अंसारी की बढ़ाई गई सुरक्षा

इससे पहले शुक्रवार (16 नवंबर) को अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेन्द्र गिरी ने समर्थन किया था. उन्होंने योगी सरकार से इकबाल अंसारी को पर्याप्त सुरक्षा मुहैया कराने की भी मांग की थी. महंत नरेन्द्र गिरी ने कहा है कि सभी लोगों को सुरक्षा मुहैया कराने का दायित्व सरकार का है और क्योंकि इकबाल अंसारी अयोध्या विवाद के मामले में पक्षकार हैं इसलिए भी उन्हें सुरक्षा मिलनी ही चाहिए.

महंत नरेन्द्र गिरी ने कहा था कि इकबाल अंसारी को अयोध्या से पलायन करने की कोई आवश्यकता नहीं है. शुक्रवार (16 नवंबर) को अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेन्द्र गिरी ने इकबाल अंसारी को आश्वस्त करते हुए कहा है कि अयोध्या में रहते हुए उनका कोई बाल बांका नहीं कर सकता है. उन्होंने कहा था कि अयोध्या के सभी संत महात्माओं का भी इकबाल अंसारी के प्रति स्नेह है. पूरे अयोध्या के मुसलमान निर्भीक होकर रहें, उन्हें कोई आंच नहीं आने दी जाएगी. नरेन्द्र गिरी ने राम मंदिर विवाद को लेकर इकबाल अंसारी से एक बार फिर से समर्थन भी मांगा है.

आपको बता दें कि अयोध्या में राम मंदिर को लेकर बढ़ी हलचल और आगामी 25 नवंबर को शिवसेना और विश्व हिंदू परिषद (विहिप) की होने वाली धर्मसभा से पहले अयोध्या में बाबरी पक्षकार इकबाल अंसारी असुरक्षित महसूस कर रहे हैं. शिवसेना और विहिप के कार्यक्रम को देखते हुए उन्होंने कहा कि साल 1992 में उनके घर जला दिए गए थे और ये तब हुआ जब वो विवादित स्थल पर नहीं गए थे. उन्होंने कहा कि अगर आगामी 25 नवंबर को 1992 की तरह भीड़ जुटी तो मुझे और अयोध्या में रहने वाले मुस्लमानों को और सुरक्षा मिलनी चाहिए.

उन्होंने कहा था कि 1992 की घटना के बाद अयोध्या में रहने वाले हिंदू मुस्लिन दोनों ही भीड़ से डरे हुए है. उन्होंने कहा कि असुरक्षा को देखते हुए अयोध्या से पलायन का मन करता है. सुरक्षा की मांग करते हुए अंसारी ने कहा, ‘अगर अयोध्या में भीड़ बढ़ रही है तो हमारी और मुसलमानों की सुरक्षा बढ़ाई जाए. अपनी सुरक्षा की मांग करते हुए उन्होंने कहा कि मेरी निजी सुरक्षा में दो सुरक्षाकर्मी है. दिनभर मेरे से कई लोग मिलने आते हैं, इसलिए मेरी सुरक्षा को और भी बढ़ना चाहिए. उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा कि अगर ऐसा नहीं होता, तो मुझे अपना घर छोड़कर कहीं और जाना पड़ेगा.

Check Also

पेट्रोल और डीज़ल के दाम आज फिर बढ़े

  दिल्ली- पेट्रोल और डीज़ल के दाम आज फिर बढ़े,दिल्ली में डीजल 95 रुपए प्रति …